• Pritima Vats

बच्चों के संम्पूर्ण विकास में विटामिन की भूमिका

प्रत्येक माँ की ये चाहत होती है कि उसका बच्चा स्वस्थ होने के साथ-साथ तेज दिमाग भी हो। अस्वस्थ शरीर में कभी एक स्वस्थ मन नहीं रह सकता है। इसलिए हमें अपने बच्चे के स्वास्थ्य का अच्छी तरह से ध्यान रखना चाहिए। बच्चों में अन्य पोषक तत्वों के साथ-साथ विटामिन की बड़ी महत्वपूर्ण भूमिका होती है। जिसे हम आसानी से इस प्रकार समझ सकते हैं।

विटामिन A - यह विटामिन आँखों की रोशनी के लिए बहुत ही आवश्यक है। यह विटामिन हमें पीले फलों, सब्जियों, पालक, मक्खन, गाजर आदि से मिलता है।

विटामिन B - यह विटामिन एक स्वस्थ स्नायु तंत्र और त्वचा को बनाए रखने के लिए उपयोगी होती है। अनाज दाल,पत्तेदार सब्जियाँ, मांस, अंडे आदि इसके प्रमुख श्रोत हैं।

विटामिन C - यह विटामिन खट्टे फलों जैसे, संतरा, आँवला, नीबू, अमरूद, मौसम्मी तथा टमाटर में पाया जाता है।

विटामिन D - शरीर में स्वस्थ हड्डियों और दाँतों के लिए विटामिन D बहुत आवश्यक है। सूर्य की रौशनी इनका सबसे बड़ा श्रोत है। इसके अलावा अंडे की जर्दी, दूध, तेल, मछली आदि में पाया जाता है।

विटामिन K – हमारे शरीर में विटामिन K के कई महत्वपूर्ण कार्य हैं। उदाहरण के लिए यह चोट इत्यादि लगने पर रक्तश्राव को रोकता है। घावों को जल्दी ठीक होने में मदद करता है। इस विटामिन का मुख्य श्रोत मानव शरीर हीं होता है। इसके अलावा पत्ता गोभी, फूल गोभी, ब्रॉकोली और पालक में कम मात्रा में पाया जात है। लेकिन इन माध्यमों से इस विटामिन की बहुत कम मात्रा प्राप्त होती है। इसलिए विटामिन K की कमी को दूर करने के लिए एक स्वस्थ शरीर की आवश्यकता है और एक स्वस्थ शरीर को लिए संतुलित आहार की।

..............................................................

29 views0 comments

©2018 by Suno Mummy........