• Pritima Vats

ऐसे दूर करें मेनोपॉज का तनाव

अगर आपकी उम्र 40 से 45 के बीच है और आप अपने स्वाभाव में कुछ नाकारात्मक परिवर्तन अनुभव कर रही हैं, चिड़चिड़ापन परेशान कर रहा है या बेवजह गुस्सा बहुत आता है, बैठे-बैठे पसीने से तर हो जाती हैं, आलस हरवक्त परेशान करता है या भूलने की परेशानी होती जा रही है तो हो सकता है यह प्री मेनोपोज की स्थिति का तनाव हो।

यह एक ऐसी समस्या है जिससे हर नारी को सामना करना पड़ता है। यदि हम अपने खान-पान और दिनचर्या को थोड़ा ठीक करें, योग का सहारा लें तो एक हद तक इस समस्या को दूर किया जा सकता है। मेनोपॉज के तनाव से बचने के कुछ टिप्स इस प्रकार है-

खुद के लिए समय- अपने लिए समय निकालना तनाव से बचने के लिए सबसे जरुरी है। आप जब अपने लिए समय निकालेंगी तभी यह सोच भी पाएँगी कि दरअसल आपकी समस्या है क्या?

योग करें- वैसे तो योग हर चीज में फायदेमंद है, लेकिन मेनोपॉज में भी काफी फायदा होता है। दर्द, थकान अनिद्रा की समस्याएँ, ज्यादा पसीना आने तथा यूरीन से संबंधित समस्याओं को भी दूर किया जा सकता है।

उत्तर अमेरिकी मेनोपॉज सोसाइटी की वार्षिक बैठक में प्रस्तुत 1700 से अधिक महिलाओं के एक अध्ययन के मुताबिक, दिमाग को तरोताजा रखने के लिए ध्यान लगाना सबसे बेहतर तरीका है।

मसाज करें या करवाएँ - शरीर पर मसाज के बाद फुर्ती आ जाती है। खून का प्रवाह तेज हो जाता है। मेनोपॉज में पैर के तले, टांगों में नीचे की तरफ, हाथ, चेहरा और कान के चारों तरफ मसाज करने से काफी फायदा होता है। इससे शारीरिक और मानसिक थकान दूर हो जाती है।

कई सारे घरेलू नुस्खे भी हैं जिन्हें अपनाकर आप मेनोपॉज के तनाव को दूर कर सकती हैं। कलौंजी और तेजपत्ता का उपयोग तनाव को दूर करने में काफी कारगर साबित होता है। सुबह-सुबह इसका उपयोग हमें दिनभर तरोताजा रखता है।

©2018 by Suno Mummy........